अनेक गुणों की खान है,अर्जुन की छाल Arjun's bark is a mine of many qualities.


अनेक गुणों की खान है,अर्जुन की छालArjun's bark is a mine of many qualities.

अर्जुन का परिचय Introduction of Arjun
सदियों से भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में अर्जुन का उपयोग किया जा रहा है!यह एक ऐसी औषधि है जिसे कोई भी प्रयोग कर सकता है!इसका वृक्ष की ऊंचाई ४० फ़ीट या काम भी हो सकती है,यह वृक्ष हिमालय की तलहटी में बसे इलाको में पाया जाता है इसके पत्तों फूलों और छाल का उपयोग शाररिक चिकित्सा के रूप में किया जाता है!इस सदाबहार वृक्ष को हजारों सालों से औषधि के रूप में प्रयोग करवाया जा रहा है!

अर्जुन के फायदे banefits of arjuna.


आयुर्वेद में अर्जुन के पेड़ का प्रयोग औषध के रूप में फल और छाल के रूप में होता है। अर्जुन की छाल के फायदे में सबसे ज्यादा उपकारी टैनिन होता है, इसके साथ पोटाशियम, मैग्निशियम और कैल्शियम भी होता है।यह शरीर के सभी दोषों का नाश करता है! आयुर्वेद के अनुसार मूलतः सभी बीमारियाँ इन तीन दोषों (वात,पित्त,कफ) के बिगड़ने से बनती है! यह शरीर में क्षय की मात्रा को कम करता है,जिससे खून साफ रहता है,सही मैं यह अर्जुन सर्वदोष नाशक है,अगर कोई भी इसको अपने दिनचर्या का हिस्सा बना कर प्रयोग करता है, वह सदा सवस्थ रहता है,उस मनुष्य को कभी भी रोग नहीं आते! तो आइये जानते है की इसको किस प्रकार  किया जाये!

अर्जुन को इस्तिमाल करने की विधि तथा लाभ Method and benefits of using Arjuna 

  1. अगर आपके मुँह में छाले हो जाएँ या मुँह पाक जाये तो अर्जुन की छाल का चूर्ण को तिल के तेल में मिला कर छालों पर लगाने से छाले ठीक हो जाते हैं!
  2. कान में दर्द हो तो भी अर्जुन के पत्तों का रास २ से ४ बूँद  कान में डालने से दर्द में आराम मिलता है!
  3. अर्जुन की छाल हिर्दय घात में अति लाभप्रद है,यह हमारी आर्ट्रिज को मजबूत करता है और दबाव को काम करता है यह हार्ट अटैक के रोगिओं के लिए रामबाण इलाज है! 
  4. 5 ग्राम अर्जुन छाल चूर्ण को मलाई रहित दूध में मलकर नियमित प्रयोग करने से दिल की मांसपेशिओं को ताकत मिलती है!
  5. सुबह के समय अर्जुन छाल को पानी में उबाल कर जब वह आधा रह जाये तो उस पानी को गुनगुने रूप में प्रयोग करें इससे आपका खून भी साफ होगा और रक्त विकार भी दूर होंगे!
  6. अर्जुन छाल को बारीक़ पीस कर रख लें,और रक्तचाप या धड़कन बढ़ने पर 1 ग्राम चूर्ण जीभ पर रखकर चूसने से जल्द आराम मिलता है!
  7. अर्जुन की चाल का प्रयोग हड्डियां कमजोर हो गयी हो या टूट गई हो तो इसका प्रयोग किसी भी रूप में करने से हड्डियां के रोग में भी आराम मिलता है!
  8. अर्जुन का काहड़ा बना कर पिने से नजला जुखाम साइनस में लाभ मिलता है,पर इन रोग में इसका प्रयोग सुबह के वक्त ज्यादा लाभदायक होता है!
  9. अर्जुन ब्लड प्रेशर के रोगिओं के लिए लाभकारी है यह ब्लड प्रेशर को संतुलित रखता है जिससे शरीर सवस्थ रहता  है!
  10. अर्जुन की चाय का प्रयोग करने से शरीर के सर्व रोगों में लाभ मिलता है!

Post a Comment

0 Comments